सेक्स वीडियो एचडी हिंदी

कुंवारी चूत दिखाओ

कुंवारी चूत दिखाओ, अपर्णा : अरे बेटा हर औरत जब काली से खिलती फूल बनती है ना तो फिर उसे व्यतीत करना ही पढ़ता है हाँ बहुत खुश है शीतल तेरे से मिलने के लिए दोनों छटपटा रहे है आख़िर तू शादी में जो नहीं आया बहटू कफा भी है मैं दादाजी की बात का मतलब समझ गया, वो मुझे रूपा के नाम का चारा खिला रहे थे और अपना उल्लू सीधा करने के लिए ऋतू को भी साथ ले जाना चाहते थे..

अह्ह्हह्ह.....चोदो....पिताजी....अपने लम्बे लंड से आज अपनी बहु को चोदो.......अह्ह्ह्ह....क्या लंड है आपका....मजा आ गया.... मैं : यानी, मैं दादाजी को भी अपने चुदाई के खेल में शामिल कर लूँ, मतलब आप अपने ससुर से चुदाई करवाना चाहती हैं..हूँ.. मैंने मसखरी वाले लहजे में उनकी आँखों में आँखें डालकर कहा.

रोज़ : बाप रे अच्छा हुआ तुम सतर्क थे..मैंने तो तुम्हें शायद आज खो ही दिया था (रोज़ ने देवश के गले लगते हुए कहा) कुंवारी चूत दिखाओ रोज़ : मुज़रिम हाला तो ने बनाया और ऊसने तो एक अच्छा रास्ता दिखाया आज मैं उसी में सुकून महसूस करती हूँ जिसे तू दो ताकि की कह रहा है वो मेरे अपने है और तू जिसका नाम गाल्त लवज़ो से लेरहा है ऊस्की मैं कोई लगती हूँ

िन्दं क्सक्सक्स

  1. सोनी जल्दी से नीचे भागी, और उसके जाते ही वो दोनों मेरी तरफ देखकर हंसने लगे और बोले यार...तू तो बड़ा जिगर वाला है...साले कैसे उसे नौकरी से निकलवाने का डर दिखाकर, ब्रा के बारे में पुछा, यार मेरी तो फट रही थी की कहीं बात उलटी न पड़ जाए...
  2. बाइक से वापिस आया फिर उसने उसे प्रेग्नेन्सी कार्ड दिया, पहले तो वो समझ ना पाई फिर काले साए ने जो उसे बताया तो वो मान गयी एचडी बीएफ वीडियो एचडी बीएफ वीडियो
  3. जगदीश राय ने अपना पूरा ज़ोर देते हुए, एक ज़ोरदार धक्का लगाया। आशा की गांड से 'पलोप' सा एक आवाज़ सुनाई दिया और पूरा का पूरा पूँछ अंदर घूस गया। सभी थोड़ी देर तक लेटे रहे और फिर एक एक करके बाथरूम गए और साफ़ होकर वापिस आये और फिर वो दोनों अगले दिन फिर आने का वादा करके वापिस चले गए,
  4. कुंवारी चूत दिखाओ...जगदीश राय , उससे निशा से तुलना कर रहा था। एक जगह पर निशा थी जो अपने पापा के ख़ुशी के लिए कुछ भी कर जाती और दूसरे ओर यह पगली आशा जो उसे अपनी उँगलियों पे नचा रही थी। अंकल की भूखी निगाहें उन्हें चोदने में लगी हुई थी..मम्मी को भी मालुम था की अंकल की नजरें उनके पसीने से भीगे जिस्म को भेद रही है...इसका पूरा मजा लेते हुए वो उनसे बात करने में लगी हुई थी..
  5. मैंने डरने वाला मुंह बनाया और कहा दादाजी... ये ...ये तो मेडमेन है...आजकल इसका बड़ा डर फेला हुआ है...ये तो साईको है...ये परिवार वालों को उठा लेता है...और अपनी मनमानी करता है... मैने यह तो नही कहा कि तुम्हे स्तन कॅन्सर है, मैं सिर्फ़ एक संभावना व्यक्त कर रहा हूँ मा ऋषभ ने उसकी घबराहट को दूर करने का प्रयत्न करते हुए कहा.

एचडी बीएफ फिल्म हिंदी

लेकिन पापा आप तो कल फिर दो महीने के लिए जा रहे हैं. आप तो इस वक़्त मम्मी को बहुत मिस कर रहे होंगे? पापा लंबी साँस लेते हुए बोले,

अंदर निशा का हाल भी कुछ समान था। पापा के सामने नंगी रहने में उसे बहोत मजा आया था और यह उसकी गिली चूत बता रही थी।पूरी बदन पर लहर फ़ैली हुई थी। जगदीश राय(मन में): पिछले कितनो दिनों से मैंने सीमा के बारे में सोचा ही नही। जो आदमी हर रात सोते वक़्त सीमा के बारे में सोचकर रोता हो, वह आज पिछली 3 रातो से खुश है। और यह सब निशा के वजह से है।

कुंवारी चूत दिखाओ,दादाजी (हडबडाते हुए) : ये क्या बकवास कर रहे हो...मैं तो बहु को उठाने की सोच रहा था, पर उसे गहरी नींद में सोता देखकर मैं चला गया..ऐसा कुछ नहीं है, जो तुम कह रहे हो..

सोनी ने बताया की मम्मी तो अपनी सहेली के घर गयी है और हम दोनों ऊपर है, फिर पापा के ऊपर आने की आवाज आई, मैंने और ऋतू ने अपने नंगे शरीर के ढकने की कोई कोशिश नहीं की...

जगदीश राय भी अपने घुटनो के बल बैठकर अपने लंड को उसके मुँह के करीब ले आया...और निशा उसे किसी गली की कुतिया की तरह चाटने लगी...अपनी जीभ से लपलपा कर उसने जगदीश राय के लंड को अपने ही शहद से तर-बतर कर दिया...ठीक उसी तरह जिस तरह से उसकी चूत को आशा ने कर दिया था इस वक़्त..शादी की सुहागरात सेक्स

उनके जाने के बाद तो फिर से तुम जो चाहे, जब चाहे, किसी के साथ भी चुदाई कर सकते हो..पर जब तक वो हैं, तब तक नहीं...समझ गए न.. मम्मी : मैंने हमेशा आपका आदर किया है...और आपकी सेवा की है...आज भी मैं आपकी सेवा करना चाहती हूँ...प्लीस मुझे करने दीजिये..आप मना मत करना.. और आप भी जानते है, की यही एक रास्ता है इस साईको की कैद से निकलने का.....मुझे कोई ऐतराज नहीं है...आप को जो करना चाहते हैं ..कर सकते हैं..

जगदीश राय को भी बहुत मजा आ रहा था और अब उसे भी आशा की पूँछ से अजीब सा लगाव हो चूका था। हालाकी उसने उस दिन के बाद से पूँछ को देखा नहीं था , सिर्फ ज़िक्र ही सुना था।

नाजिर ने उसे बेड पर लिटाया और उसकी बिना बालों वाली चूत पर अपने होंठ टिका दिए और वहां का माल साफ़ करने लगा..अपने अब्बू को अपनी चूत चूसते हुए देखकर उसके मुंह से अब्बू निकलते-२ बचा...उसने अपने दांतों तले अपनी जीभ दबाकर अपनी आवाज को ब्रेक लगाया..,कुंवारी चूत दिखाओ पर जाने से पहले सभी ने एक दुसरे की दोबारा चुदाई भी करी और उन्होंने हम सभी का धन्यवाद भी किया जिसकी वजह से वो सभी इस तरह के मजे ले पाए और आगे भी लेंगे..

News