तमन्ना भाटिया का सेक्स

पंजाबी आंटी को चोदा

पंजाबी आंटी को चोदा, फिर काफी खेल चुके तो मैंने फिर उसकी चटाई शुरू की और उसे उत्तेजना के शिखर तक पहुँचा कर वापस लिंग अंदर घुसाया और जोर जोर से धक्के लगाने शुरू किये। शीला का दरवाज़ा अभी भी बंद था… उसने शीला को पुकारते हुए दरवाज़ा खटखटाया। दो तीन बार खटखटाने के बाद दरवाज़ा खुला।

मैंने सोचने के लिए एक दिन का समय माँगा और फिर एक दिन बाद मैंने उन्हें फैसला सुना दिया कि मैं उनके साथ ही लखनऊ चल रहा हूँ। मैंने कुछ घरेलू समस्या बता कर अपनी तैनाती लखनऊ में कराने की कोशिश की थी और मुझे 6 महीने के लिए वहाँ शिफ्टिंग मिल गई थी। इस यौन-उत्तेजना ने उसके ज़हन के सारे दरवाज़े बंद कर दिए थे और शरीर का सारा नियंत्रण उसकी योनि के हाथ में आ गया था… इच्छाएं बलवती होती जा रही थीं।

पायल, कहीं ऐसा तो नहीं कि ऐसा कुछ भी ना हो, शन्नो ने खाली धमकी दी हुई हो अंशु को मैने पायल से कन्फ्यूषन में कहा पंजाबी आंटी को चोदा डॅड फॅक्टरी और प्रॉपर्टी सब आप रखिए.... फॅक्टरी के चेर्मन आप... प्रोडक्षन हेड राज वीरानी... फाइनान्स मॅनेजर ललिता वीरानी... और इन्वेस्टर आंड मीडीया रिलेशन्स ज़य वीरानी... ये लिस्ट फाइनल कीजिए प्लीज़

க்ஷ்க்ஷ்க்ஷ்க்ஷ்

  1. दिव्या अपने बेटे के लंड को निगाह भर कर देखती है. यह पहली बार था कि वो अपने बेटे के पूर्ण रूप से विक्षित खड़े लंड को उसके असली रूप मे देख रही थी. उसकी कल्पना के अनुसार उसके बेटे के लंड का साइज़ छोटा होना चाहिए था यदि वो पूर्ण रूप से वयस्क था.
  2. लेकिन इससे तो मेरा बदला पूरा नहीं होगा। मेरे दिल में ख्याल आया की जावेद का पूरा पता निकालूँ उसकी इंफोर्मेशन निकलू। और फिर उसके बाद उसकी बीवी को पटाकर उसी तरह चोद दू जिस तरह उसने मेरी बिवी को चोदा था। செஸ் படம் தமிழ்
  3. दोनों ने समझौता कर लिया था और अब यह होता था कि भाई साहब ने बीवी और बहन को समझो, मेरे हवाले कर दिया था और अब एक रात मेरे साथ ज़रीना सोती थी तो एक रात निदा। ऐसे ही महीना गुज़र गया। आगे की ज़िंदगी प्लान कर ली है डॅड... ये लीजिए मैने डॅड को उनकी प्रॉपर्टी और उनकी फॅक्टरी के पेपर देके कहा
  4. पंजाबी आंटी को चोदा...मैने सोचा खड़े लंड को शायद कुछ मिल जाए पायल के साथ चेंजिंग रूम में, बट ये ग्रीन वाली की वजह से अब मुझे दूसरे चेंजिंग रूम में जाना पड़ेगा हम अभी आधे रास्ते में ही थे, के डॉली ने तुरंत मेरा लंड पकड़ा और चूसने लगी... मैं गाड़ी चला नहीं पा रहा था...अंधेरी सड़क पे मैने गाड़ी साइड में लगाई और हम दोनो बॅक सीट पे जाके लीप लॉक करने लगे...
  5. मम्मी... तुमने मुझे मम्मी कहा.... मतलब... तुम्हे पूजा पसंद है बेटे.. अंशु ने अपनी आँखों से बहते आँसुओं को छुपाते हुए कहा.. अहहहहहहहः सीसिसीसीसीसिस... उम्म्म अहहहहः और चाट ने मेरी कुतिया बहना अहाहहाहहहहहहा ये कहके डॉली ने हाथ में पकड़ी हुई शराब नीचे गिराना

tamil aunty செக்

क्या भाई.. जान देने की बातें कर रहे थे, ये तो उसके सामने कुछ भी नहीं पायल मुझे चिढ़ाने के लिए बोले जा रही थी

मैं बिना कुछ बोले जैसा पायल ने कहा वैसा करने लगा.... जैसे ही क्लिप ओपन हुई , मैं अपने चेहरे पे चिंता के भाव लाने लगा... मैने क्लिप आधे में ही स्टॉप कर दी... तेज़ रोशनी ने शीला को चौंका दिया और वह उठ कर बैठ गई, उसने जल्दी से अपनी नाइटी दुरुस्त की और उठ खड़ी हुई।

पंजाबी आंटी को चोदा,आवाज़ खूबसूरत थी पर उससे मैं उम्र का कोई अंदाज़ा न लगा पाया। बस इधर उधर की बातें हुईं, उन्होंने अपने बारे में कुछ नहीं बताया।

जब इस पोजीशन से उनका जी भर गया तो लड़की को पीठ के बल लिटा लिया और एकदम सामने से उसे ठोकने लगे, एक अंदर डालता, दूसरा चुसाता और फिर जगह की अदला बदली।

उसकी कमर पर दबाव बना कर उसे इस तरह नीचे कर दिया कि उसके बूब्स और चेहरा गद्दे में धंस गए और इस तरह उसके नितम्बों वाला हिस्सा ही उठा रह गया जो मेरे एन सामने था और उसके दोनों गीले और बह रहे छेद बिल्कुल सही पोजीशन में मेरे सामने थे।லட்சுமி செக்ஸ்படம்

घर जाते वक़्त मेरे साथ शन्नो और विजय भी थे.. इसलिए मोम ने अपना गुस्सा मुझपे ज़ाहिर नही किया , पर घर पहुँचते ही मोम ने कहा मैं नियत समय पर गोमतीनगर वेव के सामने पहुँच गया तो उनका फोन आया कि वो कोक कलर की हांडा सिटी में हैं जो अब मेरे सामने रुक रही है। फिर फोन काटते ही वाकयी एक कोक कलर हांडा सिटी मेरे सामने आ कर रुकी और उसका दरवजा खुला।

क्या तुम्हे ये अच्छा लग रहा है? बॉब्बी, क्या तुम यही चाहते थे कि मैं तुम्हारे साथ एसा करूँ? तुम्हारी अपनी सग़ी माँ? क्या तुम सचमुच में इतने नीचे गिर चुके हो, इतने बेशरम हो गये हो, तुम यही चाहते हो कि मैं तुम्हारी मम्मी तुम्हारे इस मोटे लंबे लंड को अपने हाथों में लेकर मूठ मारे?

ऐसे में निकल तो सकती नहीं थी, अलबत्ता यह कर सकती थी कि खुद अपने एक हाथ को नीचे ले जाकर अपनी योनि को रगड़ने लगी थी।,पंजाबी आंटी को चोदा ‘निकल गए या अभी घर पे हो?’ आम तौर पर एकदम किसी की आवाज़ को पहचानना आसान नहीं होता लेकिन गौसिया की आवाज़ कुछ इस किस्म की थी कि लाखों नहीं तो हज़ारों में ज़रूर पहचानी जा सकती थी।

News